महिलाओं में भी होती हैं पुरूषों के समान दैनिक पोषण से जुड़ी आवश्यकताएँ

दिव्या चढ़ा

डाइटीशियन व न्युट्रीशनिस्ट दिव्या चढा

महिलाएँ घर की नींव होती है, जिसका मजबूत रहना सबसे ज्यादा जरूरी है। लेकिन अक्सर वह अपने खाने-पीने का ध्यान नहीं रख पाती हैं।

गृहिणी घर में सबकी देखभाल के बाद अपनी ओर देखती हैं, तो कामकाजी महिलाएँ घर और ऑफिस दोनों के बीच संतुलन बनाने में परेशान रहती हैं। ऐसे में उनका स्वास्थ्य सबसे अधिक प्रभावित होता है।

दैनिक रूप से वक्त की कमी के चलते अधिकतर महिलाएँ संतुलित खाने से वंचित रहती हैं, जबकि ऐसा करने से उनमें थकावट, चिड़चिड़ापन के साथ कई सारी बीमारियाँ घेरने लगती हैं।

महिलाएँ स्वस्थ एवं तंदुरूस्त रहें इसके लिये उन्हें संतुलित आहार की जरूरत होती है।

सबसे पहले इसके लिये इस बात की जानकारी होना बहुत जरूरी है कि उन्हें कब और कितना कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा की जरूरत है।

अपने आहार को बुद्धिमानी से चुने जो आपको 24 घंटे चुस्त रखता है।

महिलाओं को पुरूषों की तरह रोजाना दैनिक पोषण संबंधी विभिन्न आवश्यकताएँ होती हैं।

हालांकि खाने की तालिका अलग-अलग शारिरिक परिस्थितियों पर निर्धारित होती है, लेकिन कुछ बातें सामान्य तौर पर भी ध्यान देने की जरूरत है, जैसे- एक दिन में कम से कम 5 फल और सब्जियों के साथ साबुत अनाज, मछली, मुर्गा, बीन्स, दाल का खाने में इस्तेमाल करें और रेड मीट कम खाएँ। कम वसा का इस्तेमाल करें। कम चीनी वाले डेयरी खाद्य पदार्थों का चयन करें।

सामान्यतया महिलाओं को रोजाना आहार में कितना और क्या इस्तेमाल करने की जरूरत होती है, उस पर डालते हैं एक नजर-

ऊर्जा (केसीएएल) -2000
प्रोटीन (जी) -50
कार्बोहाइड्रेट (जी) – 260
चीनी (जी) -90
फैट (जी) – 70
सेचुरेट्स (जी) -20
नमक (जी) -6

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *